मेरा कोर्स क्यों बदल गया?

अगर किसी दिन आपको एक नोटिफ़िकेशन मिले कि आप डुओलिंगो पर जो कोर्स कर रहे हैं, उसमें एक अपडेट आया है तो ज़ाहिर सी बात है आप सोचेंगे — किस तरह का अपडेट? क्या बदला है? और क्यों? भाषा का कोर्स बनाने के लिए डुओलिंगो जिन नए तरीकों का इस्तेमाल और नए एक्सपेरिमेंट करता है, उसके बारे में जानने के लिए पढ़ना जारी रखें...

 

कोर्स अपडेट क्यों किए जाते हैं?

भाषा सीखने का कभी कोई अंत नहीं होता। इसलिए, हम डुओलिंगो पर अपने कोर्स को बेहतर बनाने की लगातार कोशिश करते रहते हैं! जब आपको कोई अपडेट मिलता है, तो इसका मतलब है कि हमने मौजूदा कोर्स में नए बदलाव किए हैं और हम उन्हें आपके साथ शेयर करना चाहते हैं।

कोर्स अपडेट में किस तरह के सुधार किए जाते हैं?

1. ज़्यादा कंटेंट: आप जो भाषा सीख रहे हैं, उसे CEFR स्केल (ब्लॉग पोस्ट इंग्लिश में है) पर B2 लेवल तक पढ़ाना हमारा लक्ष्य है। इसलिए, यह मुमकिन है कि आपको B2 लेवल के करीब लाने के लिए हमने नए कंटेंट जोड़े हों!
2. मौजूदा कंटेंट में बदलाव: हम लगातार रिसर्च करते रहते हैं जिससे कि हम अपने कोर्स को और बेहतर बना सकें। टेस्टिंग और एक्सपेरिमेंट के आधार पर हम अपने कंटेंट में बदलाव करते हैं। इसलिए हम आपका कोर्स अपडेट कर सकते हैं।
3. नया कंटेंट बनाना: हम अपने सभी कोर्स को CEFR स्टैंडर्ड्स के मुताबिक बनाना चाहते हैं। इसलिए कभी-कभी यह भी हो सकता है कि आपका कोर्स पूरी तरह से बदल दिया जाए। इससे यह सुनिश्चित होता है कि आप सही समय पर, सही चीज़ें सीखें।

 

CEFR क्या है?

CEFR यानी Common European Framework of Reference, भाषा सीखने के ऐसे स्टैंडर्ड हैं, जिनसे यह तय होता है कि भाषा सीखने के दौरान, किस लेवल पर आपको कितना नॉलेज होना चाहिए। भाषा के कोर्स को CEFR स्टैंडर्ड्स के मुताबिक बनाकर हम सुनिश्चित करते हैं कि आप सबसे उपयोगी चीज़ें सीखें ताकि आप आराम से बातचीत कर पाएँ।

ऐसा इसलिए है, क्योंकि B2 पर पहुँचने के बाद, आपके पास उस भाषा का इतना ज्ञान होता है, जिससे आप अपना करियर शुरू कर सकें। हम आपको ऐसे लेवल पर पहुँचाना चाहते हैं जहाँ आप सीखने वाली भाषा का इस्तेमाल करके अपनी ज़िंदगी के सारे काम आराम से कर सकें!

आप इस ब्लॉग पोस्ट (अंग्रेज़ी में) में CEFR लेवल और डुओलिंगो के बारे में ज़्यादा पढ़ सकते हैं।

मेरी स्किल और लेवल का क्या हुआ?

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम अक्सर बिलकुल नया कंटेंट जोड़ते हैं, और इसलिए भी कि हम सीखने को बेहतर बनाने के लिए कंटेंट को आगे-पीछे कर देते हैं (लर्निंग मेट्रिक्स के पैटर्न के हिसाब से कोर्स में कुछ चीज़ें बाद में पढ़ाते हैं और कुछ नए कॉन्सेप्ट पहले पढ़ाते हैं)। यह आपके स्किल लेवल और कोर्स के रंगों की दिखावट को "बिगाड़" सकता है। हम समझते हैं कि कभी-कभी ऐसा लग सकता है कि हमने आपकी सारी प्रोग्रेस मिटा दी है, लेकिन ऐसा नहीं है। आपके द्वारा सीखी जा रही भाषा में नया कंटेंट जोड़ने के बाद, हम आपको उसे देखने और उसकी समीक्षा करने का मौका देना चाहते हैं। उदाहरण के लिए: अगर हम "परिचय" स्किल में नए शब्द जोड़ते हैं, तो उसके बाद हम नए वाक्य जोड़ते हैं। इसका मतलब है कि आपने अभी तक उस कंटेंट को नहीं देख। अब यह एक नई "परिचय" स्किल बन गई है जिसे सीखना ज़रूरी है (और इसमें अभी भी पुरानी परिचय स्किल के वाक्य और शब्द शामिल हो सकते हैं)। आपके कोर्स में दिखने वाली नई और बदली गई स्किल आपके कोर्स को दिलचस्प बनाने और आपकी स्किल को ज़्यादा मज़बूत बनाने की हमारी कोशिशों का नतीजा है।

 

अपडेट में क्या बदला जा रहा है?

बदलाव इस बात पर निर्भर करता है कि आपको मिलने वाला अपडेट किस तरह का है। हालाँकि, इस बात की संभावना ज़्यादा है कि आपके कोर्स में बहुत सारे नए शब्द और पाठ जोड़े जाएँगे जिनसे आपकी भाषा का ज्ञान बढ़ेगा और आप आराम से बातचीत कर पाएँगे।

मुझे कोई फ़र्क दिखाई नहीं दे रहा है, मेरा कोर्स कब बदल रहा है?

हो सकता है कि आपने दूसरे लोगों से सुना हो कि उनका कोर्स बदल गया है या हम कोर्स में बदलाव ला रहे हैं, लेकिन आपको अपने कोर्स में कुछ भी नया नहीं दिख रहा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पहले हम कुछ गिने-चुने लोगों के लिए अपडेट जारी करते हैं। अगर इन बदलावों से लोगों को सीखने में फ़ायदा होता है तभी हम इसे दूसरे लोगों के लिए रिलीज़ करते हैं।


तकनीकी रूप में समझाया जाय, तो ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम "ए/बी टेस्टिंग" नामक प्रक्रिया का इस्तेमाल करते हैं। ए/बी टेस्टिंग में हम सीखने वालों को दो अलग-अलग ग्रुप में बाँट देते हैं। पहले ग्रुप को नया कोर्स दिया जाता है और दूसरे ग्रुप को पुराना। फिर हम दोनों ग्रुप की तुलना करते हैं कि वे कितना सीख रहे हैं और सीखने में उन्हें कितना मज़ा आ रहा है। अगर आपको अपने कोर्स में कोई बदलाव दिखाई नहीं दे रहा है, तो हो सकता है कि आप हमारे कंट्रोल ग्रुप में हैं और जल्द ही आपको नया कोर्स दिखाई देगा।

 

मुझे नया कोर्स कंटेंट मिला, लेकिन फिर गायब हो गया!

हाँ! ऐसा कभी-कभी होता है। जब हम ए/बी टेस्टिंग करते हैं, तो कोर्स के नए वर्ज़न में वे नतीजे नहीं मिलते जिनकी हमें उम्मीद होती है। इसका मतलब है कि कोर्स का यह वर्ज़न बेहतर नहीं है। जब ऐसा होता है, तो हम कोर्स का पिछला वर्ज़न फिर से एक्टिव कर देते हैं (ताकि सीखनेवाले सबसे अच्छे वर्ज़न पर सीखना जारी रख सकें)। कोर्स में कोई समस्या मिले तो उसे दूर करते हैं और नए एक्सपेरिमेंट करके फिर से आज़माते हैं।